EnglishThe Brook Summary Class 9 English

The Brook Summary Class 9 English

The Brook Summary Class 9 English

The Brook Summary In English

This poem of Lord Tennyson describes the journey of a stream from its place of origin to the ‘brimming ’river that it joins. The brook itself relates its experiences as it has been personified in this poem. It makes a sudden ‘sally ’from the place of its birth. It hurries down thirty hills, slips between the ridges and passes through twenty villages and a small town before joining the brimming river.
‘Men may come and man may go,
But I go on forever. ’
The poet brings an effective contrast between the transient life of man and the eternal onwardflow of the

    Join Infinity Learn Regular Class Program!

    Download FREE PDFs, solved questions, Previous Year Papers, Quizzes, and Puzzles!

    +91

    Verify OTP Code (required)





    I agree to the terms and conditions and privacy policy.

    The Origin
    The brook has been personified. It describes its journey of life in its own words. It originates from a place which is haunted by waterbirds like coot and heron. In its infancy, it makes a ‘sudden sally’ or emerges out suddenly. There, it makes a lot of commotion and noise.

    Onward Journey
    The brook hurries down thirty hills. Then it slips between the ridges. During its onward journey about twenty villages fall on its way. It passes through a little town and half-a-hundred bridges.

    Various Sounds and Movements
    The brook makes different kinds of sounds and noises as it flows to join the brimming river. It ‘chatters’ over ‘stony ways’ making constant high pitched sounds. Then it makes ‘sharps’ and ‘trebles’ becoming more shrill and loud. It makes bubbles during its spiral movement. When it comes into open and in the last leg of its journey, its pace becomes relaxed. It flows leisurely and comes across many lawns and grassy plots while sliding by a dozen of tree covers. Under the moon and stars, the brook murmurs softly r in wilderness. It curves, it bends and flows in a zigzag manner.

    A Source cf Life
    The brook is a source of life. It has its own support system. Many blossoms float over its surface. Lusty trout and grayling fish swim in and out of it. It provides life and nourishment to animals and men.

    Provides a Contrast to Man
    ‘For men may come and men may go
    But I go on forever
    This refrain in the poem brings about a contrast between the existence of men and the brook. Men take birth and die. Their existence is transitory or temporary. But the brook flows on forever. Its existence is eternal and in no way affected by the worldly activities.

    The Brook Summary In Hindi

    उदगम स्थान
    छोटी नदी का मानवीकरण (मूर्तिमान) किया गया है। यह अपने ही शब्दों में अपने जीवन की यात्रा का वर्णन करती है। इसका उद्गम उस स्थान पर है जहां कूट और बगुले जैसे पानी के पक्षी आते-जाते रहते हैं। अपने शैशवकाल में यह शोर मचाती एक दम अपने उद्गम स्थान से प्रस्फुटित होती है। वहां यह खूब शोरगुल मचाती है।

    अगे की यात्रा
    छोटी नदी तेजी से 30 पहाड़ियों में से बहती नीचे की ओर आती है। फिर वह पर्वत श्रेणियों (ridges) के बीच में से फिसलती हुई आगे बहती है। आगे की इसकी यात्रा के दौरान 20 गाँव इसके तट पर पड़ते हैं। यह एक छोटे से कस्बे और 50 पुलों से गुजरती हुई बहती है।

    अनेकों ध्वनियाँ और चाल
    जैसे ही छोटी नदी पानी से लबालब भरी बड़ी नदी में शामिल होने के लिए आगे बहती है तो वह अनेक प्रकार की आवाजें और शोर करती है। वह पथरीले मार्ग में उच्च स्वरीय ध्वनियों के साथ चलती है। फिर वह तीखी आवाजों की तीक्ष्ण, तेज (sharps) और कर्ण भेदी (treble) की उच्च स्वरीय ध्वनियां निकालती है। अपनी वृत्ताकार चाल के दौरान यह बुलबुले पैदा करती है। जब यह खुले में और अपनी यात्रा के अंतिम पड़ाव में प्रवेश करती है, तब इसकी गति सुस्त पड़ जाती है। यह घास के मैदानों और हैजल की झाड़ियों में से मस्ती में चुपचाप बहती या फिसलती निकल जाती है। यह घूमती है, मुड़ती है और टेढ़ी-मेढ़ी बहती है।

    जीवन का स्रोत
    छोटी नदी जीवन का एक स्रोत है। इसकी अपनी ही पोषण व्यवस्था है। इसके धरातल पर बहुत से फूल तैरते रहते हैं। बड़ी और मोटी ट्राउट और ग्रेलिंग मछलियाँ इसके अन्दर-बाहर तैरती रहती हैं। यह पशुओं और मनुष्यों को जीवन और खुराक प्रदान करती है।

    मनुष्य से तुलना प्रदान करती है।
    ‘आदमी आयें या आदमी जायें,
    लेकिन मैं सदा चलती जाती हैं।’
    कविता की यह टेक मनुष्य और छोटी नदी के जीवन में तुलना प्रदान करती है। मनुष्य जन्म लेता है और मर जाता है। उसका जीवन क्षणिक या अस्थायी है। लेकिन छोटी नदी सदा बहती चली जाती है। इसका जीवन अमर है और उस पर सांसारिक गतिविधियों का कोई असर नहीं पड़ता।

      Join Infinity Learn Regular Class Program!

      Sign up & Get instant access to FREE PDF's, solved questions, Previous Year Papers, Quizzes and Puzzles!

      +91

      Verify OTP Code (required)





      I agree to the terms and conditions and privacy policy.